World 7 Wonders Name in Hindi | दुनिया के सात अजूबे के नाम

world 7 wonders name in hindi | दुनिया के सात अजूबे के नाम और फोटो | duniya ke saat ajoobe | 7 ajuba ke naam | 7 ajuba name list | duniya ke 7 ajuba ke naam | saat ajoobe ke naam | 7 wonders of world in hindi | name of 7 ajuba in india in hindi | 7 ajuba in world name list

दुनिया देखने और अनुभव करने के लिए खूबसूरत जगहों से भरी पड़ी है। कैरेबियन के समुद्र तटों से लेकर रॉकीज के पहाड़ों तक, हर किसी के आनंद लेने के लिए कुछ न कुछ है। लेकिन कुछ स्थान ऐसे भी हैं जो इतने खास, इतने अनोखे हैं, कि वे बाकियों से काफी अलग हैं। दुनिया के सात अजूबे मानव निर्मित संरचनाएं या प्राकृतिक संरचनाएं हैं जो इतनी अविश्वसनीय हैं कि उन्हें आश्चर्य / चमत्कार / अजूबा का नाम दिया गया है। दुनिया के सात अजूबे पूरी दुनिया में सबसे अनोखे, सबसे अविश्वसनीय है। 

World 7 wonders name in hindi के इस आर्टिकल में आज हमलोग दुनिया के सात अजूबे के नाम और उनसे जुड़ा पूरी जानकारी जानने वाले है साथ ही हमलोग यह भी जानेंगे की ये दुनिया के सात अजूबे इतने खास क्यों है?

World 7 wonders name in hindi
World 7 wonders name in hindi

World 7 Wonders Name in Hindi (दुनिया के सात अजूबे के नाम और फोटो)

SL NoWonders NameWonders Photo
1Great Wall of China (चीन की विशाल दीवार)Great Wall of China
2Petra (पेट्रा)Petra
3Christ the Redeemer (क्राइस्ट द रिडीमर)Christ the Redeemer
4Machu Picchu (माचू पिचू)Machu Picchu
5Chichén Itzá (चिचेन इत्जा)Chichén Itzá
6Colosseum (कोलोसियम)Colosseum
7Taj Mahal (ताज महल)Taj Mahal

दुनिया के 7 अजूबों की अवधारणा बहुत पुरानी है। इसका पहला संदर्भ हेरोडोटस के लेखन में मिलता है, जो ईसा पूर्व 5वीं शताब्दी का है। दुनिया के 7 अजूबों को मूल रूप से प्राचीन विश्व की सबसे प्रभावशाली मानव निर्मित संरचनाओं के रूप में परिभाषित किया गया था। इन संरचनाओं को उनकी सुंदरता, स्थापत्य उत्कृष्टता और ऐतिहासिक महत्व के आधार पर चुना गया था।

उस समय यानि प्राचीन काल के सात अजूबे (7 Ajuba Ke Naam)

SL NoWonders NameWonders Photo
1Great Pyramid of Giza (ग्रेट पिरामिड ऑफ़ गिज़ा)Great Pyramid of Giza
2Hanging Gardens of Babylon (हैंगिंग गार्डन ऑफ़ बेबीलोन)Hanging Gardens of Babylon
3Statue of Zeus at Olympia (स्टेचू ऑफ़ ज़ीउस अट ओलम्पिया)Statue of Zeus at Olympia
4Temple of Artemis (टेम्पल ऑफ़ आर्टेमिस)Temple of Artemis
5Mausoleum at Halicarnassus (माउसोलस का मकबरा)Mausoleum at Halicarnassus
6Colossus of Rhodes (कोलोसुस ऑफ़ रोडेज)Colossus of Rhodes
7Lighthouse of Alexandria (लाइटहाउस ऑफ़ अलेक्सान्दिरा)Lighthouse of Alexandria

20वी शताब्दी के अंत में यानि 1999 के आसपास 7 wonders यानि सात अजूबे की सूचि में नए अजूबे शामिल करने की चर्चा होने लगी और ऐसा इसलिए हो रहा था क्यूंकि तब तक प्राचीन काल के सात अजूबे में से सिर्फ Great Pyramid of Giza (ग्रेट पिरामिड ऑफ़ गिज़ा) को छोड़ कर बाकि सभी अजूबे नष्ट हो गए थे।

इसके बाद न्यू 7 wonders यानि सात अजूबे की सूचि बनाने के लिए स्विट्जरलैंड के ज्यूरिक शहर में एक न्यू 7 वंडर फाउंडेशन का गठन किया गया। न्यू 7 वंडर फाउंडेशन ने कैनेडा में एक world.new7wonders वेबसाइट बनवाए जिसमे विश्व भर के 200 सर्वश्रेष्ठ Heritage यानि धरोहरों की सूचि जारी किया गया जिसमे दुनिया भर के लोगो से न्यू 7 वंडर के लिए वोट देने के लिए कहा गया। इसमें दुनिया भर के लगभग 10 करोड़ से भी अधिक लोगो ने इंटरनेट और फ़ोन के द्वारा न्यू 7 वंडर के लिए वोट दिए थे और फिर इन वोटो के आधार पर 7 जुलाई 2007 को न्यू 7 वंडर की सूचि जारी किया गया।

7 Wonders of World in Hindi (Duniya Ke Saat Ajoobe Ke Naam)

क्रम सअजूबा का नामदेशनिर्माणअजूबा का फोटो
1Great Wall of China (चीन की विशाल दीवार)चीन8वीं शताब्दीGreat Wall of China
2Petra (पेट्रा)जॉर्डन309 ई.पूPetra
3Christ the Redeemer (क्राइस्ट द रिडीमर)ब्राजील1931 ईChrist the Redeemer
4Machu Picchu (माचू पिचू)पेरू1430 ई.Machu Picchu
5Chichén Itzá (चिचेन इत्जा)मैक्सिको514 ई.पूChichén Itzá
6Colosseum (कोलोसियम)इटली80 ई.पूColosseum
7Taj Mahal (ताज महल)भारत1632 ईTaj Mahal
यह भी पढ़े: Names of planet in hindi (ग्रहों के नाम हिंदी में)

Information About Great Wall of China in Hindi (चीन की विशाल दीवार के बारे में जानकारी)

चीन की विशाल दीवार दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित संरचनाओं में से एक है। चीन की यह विशाल दीवार चीन के लंबे इतिहास और संस्कृति का प्रतीक है। यह चीन के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। इस दीवार की भव्यता और सुंदरता का अनुभव करने के लिए हर साल विश्व भर से लाखों पर्यटक आते हैं। चीनी साम्राज्य को आक्रमणकारियों से बचाने के लिए चीन के विभिन्न शासको के द्वारा यह दीवार बनवाया गया था। चीन की विशाल दीवार का निर्माण कार्य पाँचवीं शताब्दी ईसा पूर्व में शुरू किया गया था तथा सोलहवी शताब्दी में यह दीवार का निर्माण कार्य पूरा हुआ था। यह दीवार पूर्व में शानहाइगुआन से लेकर पश्चिम में लोप नुर तक है चीन की इस विशाल दीवार की लम्बाई 21,196 किलोमीटर है एवं इसकी चौड़ाई 25 फीट है तथा इसकी ऊँचाई किसी जगह पे 9 फीट तो किसी जगह पे 35 फीट भी है। चीन के इस विशाल दीवार की विशालता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है की इस मानव निर्मित दीवार संरचना को अन्तरिक्ष से भी देखा जा सकता है। इस दीवार का निर्माण मिट्टी, पत्थर, ईंट, लकड़ी, घास और अन्य दुसरे मटेरियल को मिला कर किया गया है। युनेस्को द्वारा 1949 को चीन के इस विशाल दीवार को विश्व धरोहर के रूप में शामिल किया गया था।

Information About Petra in Hindi (पेट्रा के बारे में जानकारी)

पेट्रा जो की जॉर्डन देश के म’आन नामक प्रान्त में स्थित है एक एतेहासिक और पुरातात्विक नगरी है जो अपने पत्थर से तराशी गई इमारतों और जलवाहन प्रणाली के लिए पुरे विश्व भर में काफी ज्यादा प्रसिद्ध है और यही कारण है की इसे 7 वंडर की सूचि में शामिल किया गया है। ऐसा माना जाता है कि पेट्रा का निर्माण कार्य लगभग 1200 ईसा पूर्व के आसपास शुरू हुआ था। नबातियों ने इस पेट्रा शहर को छठी शताब्दी ईसा पूर्व अपनी राजधानी के तौर पर स्थापित किया था। पेट्रा शहर एक होर नामक पहाड़ की ढलान पर बना हुई है जो चारो और से पहाड़ों से घिरी हुई है। पेट्रा चट्टानों को काटकर बनाए गए इमारतों के लिए दुनिया भर में काफी प्रसिद्ध है। पेट्रा को युनेस्को द्वारा एक विश्व धरोहर होने का दर्जा मिला हुआ है। पेट्रा में काफी ऊँचे ऊँचे मंदिर है, जो पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है इसके अलावा पेट्रा में तालाब, नहरें भी है, जो बहुत ही सुन्योजित तरीके से बनाई गई है। पेट्रा की खूबसूरती का आनंद लेने हर दिन दुनिया भर से हजारो पर्यटक आते है। पेट्रा का यह एतेहासिक और पुरातात्विक नगरी जॉर्डन के सबसे बड़े पर्यटक आकर्षण का केंद है।

Information About Christ the Redeemer in Hindi (क्राइस्ट द रिडीमर के बारे में जानकारी)

क्राइस्ट द रिडीमर ब्राजील के रियो डी जनेरियो में ईसा मसीह की एक मूर्ति है। प्रतिमा तिजुका वन राष्ट्रीय उद्यान में कोरकोवाडो पर्वत की चोटी पर स्थित है। क्राइस्ट द रिडीमर दुनिया के सबसे प्रसिद्ध स्मारकों में से एक है और इसे ब्राज़ील का राष्ट्रीय प्रतीक माना जाता है और इसे ब्राज़ील के झंडे पर चित्रित किया गया है। क्राइस्ट द रिडीमर दुनिया के सात अजूबों में से एक है। क्राइस्ट द रिडीमर रियो शहर के 700 मीटर ऊँची कोरकोवाडो की पहाड़ी पर स्थित है। यह प्रतिमा प्रबलित कंक्रीट और सोपस्टोन से बनी है। प्रतिमा को मूर्तिकार पॉल लैंडोव्स्की द्वारा डिजाइन किया गया था और फ्रांसीसी कंपनी ग्रुप जीएन एक्सप्रेशन के सहयोग से इंजीनियर हेइटर दा सिल्वा कोस्टा द्वारा बनाया गया था। यह प्रतिमा 98 फीट लंबी है और इसकी बाहें 92 फीट चौड़ी हैं। क्राइस्ट द रिडीमर यानि येशु मसीह की इस मूर्ती का निर्माण 1922 में शुरू हुआ था और 12 अक्टूबर, 1931 को क्राइस्ट द रिडीमर का उद्घाटन किया गया था। यह प्रतिमा ब्राज़ीलियाई ईसाई धर्म का प्रतीक बन गई है और यह रियो डी जनेरियो में सबसे अधिक देखे जाने वाले पर्यटक आकर्षणों में से एक है इसे देखने दुनिया भर से लाखो पर्यटक आते है।

यह भी पढ़े: 12 Zodiac Signs in Hindi and English (राशियों के नाम)

Information About Machu Picchu in Hindi (माचू पिचू के बारे में जानकारी)

माचू पिचू पेरू में स्थित एक विश्व प्रसिद्ध पुरातात्विक स्थल है। माचू पिचू दुनिया के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। पेरू के कस्को क्षेत्र में स्थित, यह यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है। हर साल, दुनिया भर से हजारों पर्यटक इस साइट पर इसकी खूबसूरत इमारतों को देखने और इसके समृद्ध इतिहास के बारे में जानने के लिए आते हैं। माचू पिच्चू को 15वीं सदी में इंकाओं ने बनाया था। 16वीं शताब्दी में स्पेनिश के द्वारा विजय के बाद इसे छोड़ दिया गया था। माचू पिचू साइट को 1911 में हीराम बिंघम द्वारा फिर से खोजा गया था। साइट 2,430 मीटर (7,970 फीट) की ऊंचाई पर है। इसमें दो भागो में शहर हैं ऊपरी शहर और निचला शहर। ऊपरी शहर में शाही आवास बने है जिसमे शाही परिवार के लोग रहते थे जबकि निचले शहर में धार्मिक और प्रशासनिक भवन हैं जिसमे धार्मिक और प्रशासनिक कार्यो से जुड़े लोग रहा करते थे। माचू पिचू दुनिया के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। पेरू के कस्को क्षेत्र में स्थित इस  पुरातात्विक स्थल को 1983 में यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में शामिल किया है। इस ऐतिहासिक स्थल को “इंकाओं का खोया शहर “ के नाम से भी जाना जाता है।

Information About Chichén Itzá in Hindi (चिचेन इत्जा के बारे में जानकारी)

चिचेन इत्जा एक स्पेनी शब्द है जिसका अर्थ “इट्ज़ा के कुएं के मुहाने पर” होता है। चिचेन इत्जा मैक्सिको के युकान्तन प्रान्त में स्थित एक प्राचीन माया मंदिर है। चिचेन इत्जा मैक्सिको की सबसे प्राचीन स्थलों में से एक है। चिचेन इत्जा कोलम्बस-पूर्व युग में माया सभ्यता द्वारा बनाया गया एक बड़ा शहर था। चिचेन इत्ज़ा का निर्माण 600 ईसा पूर्व में किया गया था। यहाँ का माया मंदिर एक विशाल मंदिर है जो लगभग 5 किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। चिचेन इत्जा के माया मंदिर की ऊंचाई 79 फिट है, जिसका आकर एक पिरामिड की तरह है। इस मंदिर में ऊपर जाने के लिए चारो ओर सीढ़ियां बनी हुई है इसके चारो और कुल 365 सीढ़िया बनी हुई है। चिचेन इत्जा में माया मंदिर के अलावा चक मूल का मंदिर, पिरामिड ऑफ़ कुकुल्कन, हज़ार स्तंभों के हॉल एवं कैदियों के खेल का मैदान भी स्थित है। चिचेन इत्जा स्थल वास्तु शैलियों के विविध रूपों का प्रदर्शन करता है। चिचेन इत्जा मैक्सिको का सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है जिसमे हर साल हजारो पर्यटन इस स्थल पर भ्रमण करने के लिए आते है।

Information About Colosseum in Hindi (कोलोसियम के बारे में जानकारी)

कोलोज़ीयम इटली देश के रोम प्रान्त में स्तिथ एक विशाल स्टेडियम या खेल का मैदान है। कोलोज़ीयम को रोमन स्थापत्य और अभियांत्रिकी का सर्वोत्कृष्ट नमूना माना जाता है। कोलोज़ीयम का निर्माण 70वीं से 72वीं ईस्वी के मध्य तत्कालीन शासक वेस्पियन के द्वारा प्रारंभ किया गया था तथा 80वीं ईस्वी में सम्राट टाइटस के द्वारा इसका निर्माण कार्य पूरा किया गया था। कोलोज़ीयम का यह स्टेडियम इतना विशाल था, की इसमें एक साथ लगभग 50000 लोग बैठ सकते थे। यह स्टेडियम अंडाकार के आकर का है जो 24 हजार वर्गमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। इस स्टेडियम में मात्र मनोरंजन के लिए योद्धाओं के बीच खूनी लड़ाईयाँ हुआ करती थीं। एक योद्धा दुसरे योद्धा के साथ लड़ते थे कई बार योद्धाओं को जानवरों से भी लड़ाया जाता था। अनुमान है कि इस स्टेडियम में योद्धाओं के बीच खूनी लड़ाईयों में लगभग 5 लाख पशुओं और 10 लाख मनुष्य मारे गए थे। कोलोज़ीयम के इस स्टेडियम में खूनी लड़ाईयों के अलावा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हुआ करते थे। लेकिन पूर्व मध्यकाल में कोलोज़ीयम स्टेडियम में इस प्रकार के खूनी लड़ाईयों के साथ साथ सार्वजानिक उपयोग पर भी प्रतिबन्ध लगा दिया गया। इस स्टेडियम का कुछ हिस्सा भूकंप और प्राकृतिक आपदाओं की वजह से नष्ट हो गया है फिर भी यह वर्तमान समय में यह पूरी दुनिया में काफी ज्यादा लोकप्रिय है। यहाँ हजारो की संख्या में प्रत्येक वर्ष पर्यटक आते है।

Information About Taj Mahal in Hindi (ताज महल के बारे में जानकारी)

दुनिया के 7 वंडर यानि अजूबे में से एक ताज महल हमारे देश भारत में स्थित है। ताज महल भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के आगरा शहर में स्थित है। ताज महल का निर्माण मुग़ल सम्राट शाहजहाँ ने अपनी पत्नी मुमताज़ महल की याद में करवाया था। ताज महल का निर्माण सन 1632 ईस्वी से 1653 ईस्वी के मध्य हुआ था। इसकी कुल ऊंचाई 73 मीटर है। ताज महल पुरे दुनिया में प्यार के निशानी के रूप में जाना जाता है। ताज महल मुग़ल वास्तुकला का उत्कृष्ट नमूना है इसे उस्ताद अहमद लाहौरी द्वारा बनाया गया था। ताज महल सफ़ेद संगमरमर पत्थर का बना हुआ है ताज महल के निर्माण के लिए देश विदेश से उच्च गुणवत्ता की सफ़ेद संगमरमर पत्थर मंगवाया गया था। ताज महल सफ़ेद संगमरमर पत्थर का बना हुआ होने के कारण पूर्णिमा के रात जब ताज महल के सफ़ेद संगमरमर पत्थर पर चाँद की रोशनी पड़ती है तो इसकी सुन्दरता कई गुना बढ़ जाती है। सन 1963 में ताज महल को युनेस्को विश्व धरोहर की सूचि में शामिल किया गया। ताजमहल अपनी विशेष सुंदरता के लिए पूरी दुनिया में काफी ज्यादा लोकप्रिय है हर साल देश विदेश से लाखो पर्यटक इस ताज महल की सुंदरता के दीदार के लिए आते है।

यह भी पढ़े: 10 fruits names in hindi (10 फलों के नाम हिंदी में)

निष्कर्ष:

World 7 wonders name in hindi के इस आर्टिकल में आज हमने दुनिया के सात अजूबे के नाम और फोटो के बारे में जाना, आशा करता हूँ की आपको 7 wonders of world in hindi की यह जानकारी काफी अच्छा लगा होगा। आपको duniya ke saat ajoobe की यह जानकारी कैसा लगा यह आप कमेंट में हमे जरुर बताए साथ ही इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे।

World 7 wonders name in hindi (दुनिया के सात अजूबे) के इस आर्टिकल को अपना इतना प्यार देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

2 thoughts on “World 7 Wonders Name in Hindi | दुनिया के सात अजूबे के नाम”

Leave a Comment