e-Learning in Hindi | ई-लर्निंग क्या है? पूरी जानकारी हिंदी में

e-Learning in Hindi: हेल्लो दोस्तों 🙏 स्वागत है आपका इस आर्टिकल में, दोस्तों आज हम लोग बात करने वाले हैं “e-Learning in Hindi” यानी “ई लर्निंग क्या है?” के बारे में,साथ ही हमलोग “e learning hindi me jankariya” के बारे में वह सारी जानकारी के बारे में जानने वाले है जिसके लिए आप इस आर्टिकल में आए है।

तो चलिए “e learning in hindi” से जुड़ी कोई भी जानकारी जानने से पहले हम लोग यह जानकारी प्राप्त कर लेते हैं कि “e learning Ka Full Form Kya Hai?”

ई-लर्निंग का फुल फॉर्म क्या है?

“ई लर्निंग का फुल फॉर्म क्या है?” यानी “e learning full form in hindi” की बात करें तो ई लर्निंग का फुल फॉर्म “Electronic Learning” होता है। वही ई लर्निंग का मतलब यानी e learning meaning in hindi की बात करे इसका मलतब होता है शिक्षा का ऐसा जो इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से प्रदान की जाती हो जैसे computer, laptop, mobile आदि। आसान शब्दों में कहे तो जो शिक्षा हम इन्टरनेट की मदद से प्राप्त करते है उसे ही ई लर्निंग कहा जाता है।

दोस्तों जैसा की अभी हमलोगों ने जाना की ई लर्निंग का फुल फॉर्म इलेक्ट्रॉनिक लर्निंग होता है। दोस्तों, ई-लर्निंग का फुल फॉर्म के अलावा ऐसे भी बहुत सारे e-learning से जुड़ी जानकारी है जिसके बारे में जानना आपके लिए काफी जरूरी है जैसे क्या आपको पता है कि:-

  • ई-लर्निंग क्या होता है?
  • ई-लर्निंग की विशेषताए क्या है?
  • ई-लर्निंग के फायदे क्या है?
  • ई-लर्निंग के नुक्सान क्या है?
  • ई-लर्निंग की आवश्यकता क्यों पड़ी?
  • ई-लर्निंग से कौन पढाई कर सकता है? 
  • ई-लर्निंग से पढाई करने के लिए क्या चाहिए
  • ई-लर्निंग से पढाई कैसे करे?

दोस्तों अगर आपको e- learning से जुड़ी ये सारी जानकारियों के बारे में नहीं पता है तो आप बिल्कुल भी चिंता ना करें क्योंकि आज हम लोग What is e learning in Hindi से जुड़े यह सारे प्रश्नों के बारे में जानने वाले हैं और मुझे पूरा विश्वास है कि “e learning kya hota hai?” का यह आर्टिकल पूरा पढ़ने के बाद आपके मन में e-learning Full Information in Hindi से जुड़े जितने भी सवाल है सारे सवालों के जवाब आपको इस आर्टिकल में मिल जाएगा।

तो चलिए अब हमलोग जानते है की “e-learning kya hai?”

ई-लर्निंग क्या है?

“ई लर्निंग क्या है” की बात करे तो ई लर्निंग का अर्थ इलेक्ट्रॉनिक लर्निंग है यानी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस और इन्टरनेट की मदद से शिक्षा लेना ही ई लर्निंग कहलाता है जिसे हम ई- शिक्षा या ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली भी कहते है। ई लर्निंग विभिन्न रूप से इन्टरनेट की मदद से ऑनलाइन विडियो, ऑडियो आदि के द्वारा ली जाने वाली शिक्षा है इसमें वेब आधारित लर्निंग, मोबाइल आधारित लर्निंग या कंप्यूटर आधारित लर्निंग, वर्चुअल क्लासरूम, तथा वेबिनर आदि शामिल है। 

आज से कई वर्ष पूर्व ई-लर्निंग का कांसेप्ट हमारे सामने आ गया था लेकिन दुनिया को इसमें ज्यादा इंटरेस्ट नहीं था। पहले तो लोग इसकी बुराई करते थे परंतु जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी और ऑनलाइन लर्निंग सिस्टम को बढ़ावा दिया गया ई लर्निंग और ज्यादा प्रसिद्ध होते गया। आज की युग में लाखों स्टूडेंट ऑनलाइन स्टडी कर रहे हैं। स्कूल और यूनिवर्सिटी भी ई लर्निंग ऑनलाइन स्टडी को बढ़ावा दे रहे हैं। विशेषकर आज कोरोना के कारण स्कूल बंद पड़े हैं इस स्थिति में यह लर्निंग ही सबसे बड़ा शिक्षा का साधन बन गया है। एक खोज से पता चला है कि एक ऑफलाइन क्लास के मुकाबले ऑनलाइन क्लास ज्यादा आसान होता है। वह इसलिए क्योंकि ई लर्निंग में एक विषय को सिखाने के लिए बहुत से साधन है जैसे की ऑडियो रिकॉर्डिंग, वीडियो रिकॉर्डिंग, क्युज, गेम, प्रेजेंटेशन, डिस्कशन, ग्रुप आदि जैसे बहुत सारे साधन है जिसका उपयोग करके ई लर्निंग के माध्यम से शिक्षा दी जाती है।

ई-लर्निंग मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं:-

  • Synchronous learning
  • Asynchronous learning
  • Synchronous learning:– sychoronous का अर्थ है कि एक ही समय में learner और instructor अलग-अलग जगह में एक ही समय में एक दूसरे को इंटरेक्ट करते हैं। इसमें किसी भी चीज को सीखने पर आप अपना सवाल तुरंत पूछ सकते हैं, जिससे आपका कन्फ्यूजन तुरंत दूर हो जाता है। इसलिए इसका दूसरा नाम रियल- टाइम लर्निंग भी है। इसी तरह ई लर्निंग में कई ऑनलाइन टूल की मदद से विद्यार्थियों को सीखने का अलग-अलग प्रकार का साधन दिया जाता है। जैसे की ऑडियो कॉन्फ्रेंसिंग, वीडियो कॉन्फ्रेंसिग, लाइव चैट, वैबाइनर आदि।
  •  Asynchronous learning:-इसका अर्थ synchronous के विपरीत यानी कि एक समय मे नहीं होता है। यानी इसमें learner और instructor के बीच एक समय में इंटरेस्ट करने का कोई संबंध नहीं होता है। इसके अंतर्गत वेब आधारित प्रशिक्षण आता है। जिसमें हम किसी ऑनलाइन कोर्स, ब्लॉग्स, ई- बुक्स आदि का उदाहरण ले सकते हैं। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि हम 24 घंटों में कभी भी इसको निकाल कर पढ़ सकते हैं। जिनके पास टाइम पर समय नहीं रहता है वह स्टूडेंट के लिए यह सबसे अच्छा विकल्प है। 

ई-लर्निंग की विशेषताए क्या है? 

ई-लर्निंग की विशेषताओ की बात करे तो आज के modern world ई-लर्निंग की बहुत सारे विशेषताए है जैसे 

  • ई-लर्निंग के द्वारा आप घर बेठे ऑनलाइन पढाई कर सकते है। वह भी आप बहुत कुछ फ्री में पढाई कर सकते है।
  • ई-लर्निंग से आप बहुत से नए नए कोर्स की पढाई कर सकते है वह इसका certificate भी प्राप्त कर सकते है। 
  • ई-लर्निंग में study material इन्टरनेट से connected होते है जिस कारन इससे आप कही भी और कभी भी पढाई कर सकते है। आप चाहे तो study material को अपने मोबाइल या लैपटॉप में डाउनलोड करके रख सकते है।
  • ई-लर्निंग के द्वारा आप दुनिया के best teachers से पढाई कर सकते है कुछ सिख सकते है।
  • ई-लर्निंग teacher और students की बिच की दूरी को मिटा दिया है जैसे ई-लर्निंग के द्वारा आप झारखण्ड के किसी गावं में बैठे दिल्ली के किसी teacher से ऑनलाइन पढाई कर सकते है। 
  • ई-लर्निंग में पढाई करने का experience better होता है इसमें आपको बहुत कुछ theory knowledge के साथ साथ practical knowledge भी मिलता है। 

चलिए अब हमलोग जानते है की “e learning ke fayde kya hai?”

ई-लर्निंग के फायदे क्या है?

“ई लर्निंग के फायदे क्या है?” की बात करे तो इसके बहुत सारे फायदे है जैसे 

  • ई लर्निंग का सबसे बड़ा फायदा यह है कि अपने आराम के अनुसार किसी भी स्थान पर कहीं भी बैठकर किसी भी समय शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं। 
  • जब आप ऑफलाइन क्लास करते हैं तो अगर आपका क्लास छुट जाता है तो आपको खुद से अपनी पढ़ाई करनी होती है लेकिन ई लर्निंग में ऐसा नहीं है अगर क्लास छुट भी गया तो आप किसी भी टाइम उसको निकाल कर पढ़ सकते हैं। तथा समझ ना आने पर आप बार-बार उसे पढ़ सकते हैं।
  • ऑनलाइन लर्निंग बहुत ही सस्ता होता है क्योंकि इसमें अगर आपके पास बुक भी नहीं है तो भी चलेगा और टीचर्स को भी अधिक फी नहीं देनी होती है।
  • ई लर्निंग के द्वारा आप बहुत सारे certified course फ्री में ऑनलाइन भी कर सकते है। 
  • अगर आप कोई समस्या के कारण स्कूल या कॉलेज नहीं जा पाते हैं तो आप ई लर्निंग के द्वारा ऑनलाइन माध्यम से उसे कवर कर सकते हैं।
  • अगर कहा जाए तो ऑनलाइन क्लास प्रकृति के बचाव के लिए भी बहुत लाभदायक है क्योंकि ऑनलाइन लर्निंग में किताबों की आवश्यकता नहीं होती है जिससे कागज का निर्माण भी काफी कम होता है और पेड़ों का कटना भी सीमित मात्रा में होती है।

दोस्तों अगर आपको जानना है की बीएससी नर्सिंग क्या है? और बीएससी नर्सिंग कैसे करे तो आप नीचे बीएससी नर्सिंग क्या है? और कैसे करे? पे Click करके बीएससी नर्सिंग के बारे पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते है।

बीएससी नर्सिंग क्या है? और कैसे करे?

अब चलिए “e learning ke nuksan kya hai?” के बारे में भी जान लेते है। 

ई लर्निंग के नुक्सान क्या है?

“ई-लर्निंग के नुक्सान क्या है?” की बात करे तो 

  • ई-लर्निंग का सबसे बड़ा नुकसान है की इसमें पढाई का माहोल नहीं बन पता है। एक क्लासरूम में पढाई का जो माहोल होता है वह ई-लर्निंग में कभी बन नहीं पाएगा।
  • ई-लर्निंग के द्वारा पढाई करते समय अगर student अपने पढाई के प्रति serious रहा तो ठीक वरना इसमें mind बहुत जल्दी divert हो जाता है। 
  • ई-लर्निंग से पढाई करना कई students के लिए बहुत boring होता है जिस कारन वह पढाई में अच्छा से मन नहीं लगा पते है। 
  • अगर आप पढ़ाई के प्रति बहुत ज्यादा सेंसिटिव हैं, तो आपको ई लर्निंग यानी ऑनलाइन क्लास अच्छे नहीं लगते होंगे क्योंकि एक सेंसिटिव छात्र के लिए पढ़ाई के साथ-साथ डिसिप्लिन भी मायने रखती है। इसलिए ई लर्निंग में कोई डिसिप्लिन नाम की चीज छात्र में देखने को नहीं मिलती है।
  • ई लर्निंग आपको ऑफलाइन क्लास की तरह सुविधा नहीं दे सकता क्योंकि ऑफलाइन क्लासेस में टीचर और छात्र का फेस टू फेस इंटरेक्शन रहता है।
  • ई लर्निंग मे आपको बहुत सारी परेशानियां भी हो सकती है जैसे कि कभी नेटवर्क नहीं है या आपका डाटा भी खत्म हो सकता है उस समय आप क्लास से वंचित हो जाते हैं। 

ई लर्निंग की आवश्यकता क्यों पडी?

आज कल हम अपना ज्यादातर काम ऑनलाइन ही करना पसंद करते है जैसे पैसे ट्रान्सफर करना, ट्रेन, बस या हवाई जहाज का ticket बुक करना, ऑनलाइन शौपिंग करना यहाँ तक की आज कल हम अपने छोटे से छोटे काम भी ऑनलाइन करने लगे है और ऐसे में एजुकेशन भी पीछे कैसे रहता।

और बढ़ती टेक्नोलॉजी के ज़माने में ई लर्निंग की जरुरत भी काफी था आज कल सभी के पास बहुत कम समय है और सभी चाहते है की वह कम समय में ज्यादा से ज्यादा काम करे ऐसे में ऑनलाइन एक बहुत ही मददगार साबित हुआ। ऑनलाइन में आप घर बैठे अपने कामो को कर सकते है।

साथ ही शिक्षा के अस्तर को बेहतर बनाने और सभी तक शिक्षा को पहुचने के लिए ई लर्निंग की काफी ज्यादा आवश्यकता है। क्यूंकि ई लर्निंग के द्वारा अब लोग कभी भी और कही भी कुछ भी पढाई कर सकते है।   

जब हमारे देश में कोरोना का लहर तेजी से पनपा, तब हमारे देश का कारोबार के साथ-साथ शिक्षा भी ठप हो चुकी थी। बच्चों का स्कूल जाना बंद हो गया था ऐसे में ना बच्चों को पढ़ाई से कोई संबंध था यानी वह सब कुछ भूल ही रहे थे। तभी स्कूलों ने ई लर्निंग के माध्यम से पढ़ाने का निर्णय लिया।और आज भी बहुत ऐसे राज्य हैं जहां अभी तक लॉकडाउन नहीं खुला है। ऐसे में यह लर्निंग सबसे बड़ा शिक्षा का साधन बन चुका है। और अगर कभी कोई छात्र कोई कारणवश स्कूल नहीं जा पाता है तो वह उस दिन जो स्कूल में पढ़ाया जाता है उसको ई लर्निंग के माध्यम से कवर कर लेता है। 

ई-लर्निंग से कौन पढ़ाई कर सकता है?

ई लर्निंग एक ऑनलाइन शिक्षा का साधन है इसलिए इसकी मदद से कोई भी छात्र या कोई भी व्यक्ति पढ़ाई कर सकता है क्योंकि इसमें ना ही किसी की ऐज लिमिट देखी जाती है और ना ही उनकी कोई योग्यता। 

ई-लर्निंग से पढ़ाई के लिए क्या चाहिए?

ई-लर्निंग से पढाई करने के आपके पास मोबाइल या कंप्यूटर या लैपटॉप या इसी प्रकार का कोई device होना चाहिए साथ ही आपके पास एक इन्टरनेट कनेक्शन भी होना चाहिए। अगर ये दो चीजे है तो आप ई-लर्निंग के द्वारा घर बैठे ऑनलाइन तरीके से काफी मजे से पढाई कर सकते है।  

ई-लर्निंग से पढ़ाई कैसे करें?

ई-लर्निंग से पढाई आप काफी आसानी से कर सकते है भारत में ऐसे बहुत सारे platform है जहाँ पे आप ई-लर्निंग के द्वारा पढाई कर सकते है और नॉलेज प्राप्त कर सकते है। इसमें सबसे अच्छा ई-लर्निंग प्लेटफार्म youtube है यूट्यूब से आप लगभग सब कुछ फ्री में पढ़ सकते है आज के ज़माने में youtube एक सबसे बढ़ा online digital platform है जहाँ पे आप जो चाहे वह पढ़ सकते है इसमें साथ ही बहुत सरे online learning app और website है जहा से आप ऑनलाइन पढाई कर कर सकते है। दोस्तों आपको बता दे की कुछ कुछ online learning app और website में पढाई करने के लिए आपको subscription लेना होगा यानी पैसा देके इसका member बनना होगा तभी जेक आप इन online learning app और website में पढाई कर सकते है वही कुछ कुछ online learning app और website ऐसे भी जहाँ पे आप फ्री में भी पढाई कर सकते है। 

ई-लर्निंग का अर्थ क्या है?

ई-लर्निंग का अर्थ इलेक्ट्रॉनिक लर्निंग है यानी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस और इन्टरनेट की मदद से शिक्षा लेना ही ई लर्निंग कहलाता है जिसे हम ई- शिक्षा या ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली भी कहते है। ई लर्निंग विभिन्न रूप से इन्टरनेट की मदद से ऑनलाइन विडियो, ऑडियो आदि के द्वारा ली जाने वाली शिक्षा है इसमें वेब आधारित लर्निंग, मोबाइल आधारित लर्निंग या कंप्यूटर आधारित लर्निंग, वर्चुअल क्लासरूम, तथा वेबिनर आदि शामिल है।

क्या ई-लर्निंग के लिए कोई योग्यता चाहिए?

ई-लर्निंग एक ऑनलाइन शिक्षा का साधन है इसलिए इसकी मदद से कोई भी छात्र या कोई भी व्यक्ति पढ़ाई कर सकता है क्योंकि इसमें ना ही किसी की ऐज लिमिट देखी जाती है और ना ही उनकी कोई योग्यता।

तो दोस्तो यह है e learning in hindi की पूरी जानकारी जिसमें हमलोग e learning kya hai? के साथ – साथ e- learning के बारे में वह सारी जानकारी के बारे में जाने जिसकी आपको तलाश थी। दोस्तो आशा करती हूं कि आप e-Learning in Hindi से जुड़ी दी गई जानकारी से आप संतुष्ट है और आपके मन में e- learning से जुड़े जितने भी सवाल थे सारे सवालों के जवाब मिल गया होगा।

इनके अलावा भी दोस्तो अगर आपके मन में ई लर्निंग क्या होता है? से जुड़ी किसी भी प्रकार का सवाल है तो आप हमें comments करके पूछ सकते है और मै पूरा कोशिश करूंगी की आपके सारे सवालों का जवाब दे सकूं।

दोस्तों,इसी प्रकार के informative articles के लिए हमारे साथ जुड़े रहे!

आपका बहुत-बहुत धन्यवाद…!!!🙏🙏🙏

Leave a Comment