ऑनलाइन वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कैसे करे?

हेल्लो दोस्तों स्वागत है आपका, दोस्तों आज हमलोग जानने वाले है की वोटर कार्ड को आधार कार्ड से कैसे जोड़े? यानी ऑनलाइन वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कैसे करे? के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में हमलोग जानने वाले है।

दोस्तों जिस प्रकार हमे हमारे पैन कार्ड को अपने आधार कार्ड से जोड़ने पड़े यानी लिंक करने पड़े उसी प्रकार अब हमे अपने वोटर कार्ड को भी आधार कार्ड से जोड़ने पड़ सकते है यानी वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना पड़ सकता है।

आपको बता दे की हाल ही में 20 दिसम्बर 2021 को भारत के कानून मंत्री किरण रेजिजू के द्वारा लाया गया चुनाव कानून संशोधन विधेयक 2021 लोकसभा में पास हो गया जिसे चुनाव सुधार बिल के रूप में भी जाना जा रहा है। इस बिल के तहत अब देश के नागरिको को अपना आधार कार्ड के साथ अपना वोटर कार्ड को जोड़ना यानी लिंक करना होगा।

आपको यहाँ बता दे की वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना अभी अनिवार्य नहीं किया गया है यानी aadhaar card-voter card link का जो विधेयक “चुनाव कानून संशोधन विधेयक 2021” में पारित किया गया है उसके तहत वोटर कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ना अनिवार्य नहीं किया गया है मतलब अगर आपका मन है तो आप अपना वोटर कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ सकते है और आप चाहे तो नहीं भी कर सकते है। 

अब जब वोटर कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ना है की नहीं यह निर्णय आपको खुद लेना है तो ऐसे में सभी के मन में इसको लेकर काफी सारे सवाल आ रहे होने जैसे 

  • वोटर कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ने के फायदे क्या है?
  • वोटर कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ने के नुकसान क्या है?
  • हमे वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना चाहिए? की नहीं
  • वोटर कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ना क्यूँ जरुरी है?
  • वोटर कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ने की प्रक्रिया क्या है?

दोस्तों अगर आपके मन में भी वोटर कार्ड-आधार कार्ड लिंक से जुड़ी इसी प्रकार के प्रश्न है तो आप हमारे साथ इस आर्टिकल में बने में हमलोग ये सभी प्रश्नों के बारे में पूरी details के साथ जानेंगे और मुझे पूरा विस्वास है की यह आर्टिकल को पूरा पढने के बाद वोटर कार्ड-आधार कार्ड लिंक से जुड़ी जितने भी doubts आपके मन में है सारे के सारे clear हो जाएंगे।

तो चलिए अब हमलोग जानते है की voter card ko aadhaar card se jodne ke fayde kya hai?

वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करने के फायदे क्या है?

Voter card ko aadhaar card se link karne ke fayde की बात करे तो इसके कई सारे फायदे है जैसे 

  • वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करने के सबसे बड़े फायदे होंगे की इससे जितने भी सारे fake वोटर कार्ड है वह सारे बंद हो जायेंगे। अभी हाल ये है की लोग जिस जगह में रहते है वहा का वोटर कार्ड बना लेते है फिर जब वह किसी काम से दुसरे जगह जाकर रहने लगते है तो वहा का भी वोटर कार्ड बना लेते है ऐसे में एक ही आदमी कई सारे अलग अलग पते पे अलग अलग वोटर कार्ड बना लेते है और सरकार के योजनाओ का गलत फायदा उठाते है जिससे असल में जिसे योजना का लाभ मिलना चाहिए वही लोग वंचित रह जाते है अब जब वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना होता तो ऐसे में एक आदमी के केवल एक ही वोटर कार्ड आधार से लिंक होगा और बाकी के सारे वोटर कार्ड बंद हो जाएंगे। जिससे ये सब फर्जीवाड़ा बंद हो जाएगा।
  • जब दो कार्ड, वोटर कार्ड और आधार कार्ड लिंक हो जाएंगे तो सरकार के पास अपने नागरिको की जानकारी ज्यादा अच्छे से होंगे और सरकार की और से दिए जाने वाले योजनाओ का लाभ नागरिको तक पहले की भाति ज्यादा सरलता से पहुँच पाएगी।
  • एक पते से दुसरे पते पर जाने पर यानी अपना घर का पता बदलने पर यानी वोटिंग बूथ बदलने पर आपको अपना पुराना वोटर कार्ड बंद करके नया वोटर कार्ड बनाने की जरुरत नहीं पड़ेगी जिस प्रकार आधार कार्ड पुरे भारत में आप एक पहचान पत्र के रूप में इस्तेमाल कर सकते है और अपना पता बदलने पर उसी आधार कार्ड पर अपना पता update कर इस्तेमाल कर सकते है उसी प्रकार हो सकता है की आप अपना वोटर कार्ड के साथ भी कर सकते है। 
  • प्रवासी मजदूरो को अब कही से भी वोट देने का मौका मिल सकता है। मान लीजिए कोई आदमी दूसरा राज्य में जाकर काम करते है और उसके अपना राज्य में चुनाव है अब चुनाव में अपना राज्य में जाकर वोट देना काफी मुस्किल होता है जिस कारण बहुत सारे लोग वोट ही नहीं देते है पर वोट देना तो प्रत्येक नागरिक जो 18 वर्ष से अधिक का है उसका मूल अधिकार है और देश के प्रगति के लिए भी देश के प्रत्येक नागरिक का वोट देना जरुरी है। तो अब इस समस्या को दूर करने के लिए सरकार internet और  technology की मदद से कोई कदम उठा सकती है की जिससे लोग दुसरे राज्य में रहकर भी अपने राज्य के चुनाव में वोट दे सके और इसके लिए जरुरी है की पहले सारे fake वोटर कार्ड बंद हो और जिसके लिए वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना जरुरी है।
  • वोटर कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ने से चुनाव आयोग को अपना वोटरों की जानकारी अच्छे से मिल पाएंगे जिसका चुनाव का प्रक्रिया सरलता से हो पाएगा साथ ही कितने लोगो पे चुनाव में वोट दिया यह जानकारी भी पहले की भाति ज्यादा आसानी से मिल पाएगी।

तो चलिए अब हमलोग जानते है की voter card ko aadhaar card se jodne ke nuksan kya hai?

वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करने के नुकसान क्या है?

जब भी कोई काम किए जाते है तो उसके कुछ फायदे के साथ साथ कुछ नुकसान भी होते है और जिसके बारे में भी हमे पता होना काफी जरुरी होता है तो चलिए एक नजर हमलोग voter card ko aadhaar card se link करने पे क्या क्या नुकसान हो सकता है उसपे भी डालते है।

  • दो कार्ड, आधार कार्ड और वोटर कार्ड को जोड़ देने से इससे डाटा के साथ छेड़खानी हो सकती है डाटा चोरी होने का खतरा हो सकता है।
  • सरकार के पास नागरिको के आधार कार्ड में biometric data तो है ही अब आधार कार्ड के साथ वोटर कार्ड लिंक करने से नागरिको की पहचान पत्र की डाटा भी मिल जाएगी।
  • आधार-वोटर डेटाबेस विकसित होंगे जिससे नागरिको की ट्रैकिंग किया जा सकता है। 

तो चलिए अब हम जानते है की hume voter card ko aadhar card se link karna chahiye ki nahi

वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना चाहिए की नहीं 

बात करे हमे वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना चाहिए की नहीं, और अगर करना चाहिए तो वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना क्या जरुरी है?

इसके लिए सबसे पहले हमलोग समझते है की आधार कार्ड और वोटर कार्ड में क्या अंतर है? तो आपको बता दे की आधार कार्ड UIDAI (Unique Identification Authority of India) यानी भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण के द्वारा बनाया जाता है जो की एक बहुत ही महत्वपूर्ण पहचान पत्र होता है। आज कल हर कोई important काम के लिए आधार कार्ड माँगा जाता है चाहे बैंक में खाता खुलवाना हो, सरकार के किसी योजना का लाभ लेना हो या कोई नौकरी के लिए आवेदन ही करना क्यूँ ना हो आधार कार्ड माँगा जाता है वही वोटर कार्ड की बात करे तो वोटर कार्ड चुनाव आयोग द्वारा बनाया जाता है और वोटर कार्ड नागरिको को वोट देने का अधिकार देती है और साथ ही वोटर कार्ड भी एक महत्वपूर्ण पहचान पत्र है।

आधार कार्ड के आने से पहले वोटर कार्ड को मूल पहचान पत्र के रूप में इस्तेमाल किया जाता था पर जब से आधार कार्ड आया है वोटर कार्ड का इस्तेमाल पहले ही भाति कम हो गया है। ऐसा नहीं है की अब वोटर कार्ड एक महत्वपूर्ण पहचान पत्र नहीं रहा आपसे जहा भी पहचान पत्र माँगा जाए आप वोटर कार्ड दे सकते है पर लोगो के द्वारा ही अब वोटर कार्ड का इस्तेमाल कम किया जाने लगा है।

अब बात करे की हमे वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना चाहिए की नहीं तो आपको बता दे की एक वोटर कार्ड बनाने के लिए हम अपना जो जानकारी देते है उससे ज्यादा जानकारी हमे अपना आधार कार्ड बनाने के लिए देना पड़ता है वोटर कार्ड में ऐसा कोई जानकारी नहीं है जो हमारे वोटर कार्ड में नहीं है इसीलिए वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करने से कोई दिक्कत नहीं है पर इसे लिंक करना अभी अनिवार्य नहीं है इसीलिए यदि आपका मन हो रहा तो अपने वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कीजिए वरना आप इसे छोड़ भी सकते है।

वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना क्यूँ जरुरी है?

अब बात करे की वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना क्यूँ जरुरी है? की तो जैसे कुछ साल पहले जब आधार कार्ड बैंक अकाउंट से लिंक नहीं था तब जब भी सरकार के किसी योजना का लाभ नागरिको को दिया जाता था तो उस योजना का पैसा बिचोलियों सब बीच में ही खा जाते थे और नागरिको को योजना का बहुत ही कम रकम प्राप्त हो पता था पर जब से बैंक अकाउंट के साथ आधार कार्ड को लिंक किया गया है तब से सरकार के किसी भी योजना का रकम लाभुक के सीधे बैंक अकाउंट में भेज दिया जाता है इससे सबसे ज्यादा फायदा तो नागरिको को ही होता है।

ऐसा ही कुछ हाल अभी वोटर कार्ड का भी है एक ही आदमी कई सारे वोटर कार्ड बनाके रखा है और वह चुनाव के समय एक से ज्यादा जगह पे वोट करता है जो की कानून के खिलाफ है क्यूंकि कानून एक नागरिक जो 18 वर्ष से अधिक उम्र का है और जिसके पास वोटर कार्ड है उसे सिर्फ एक ही वोट देने का अधिकार है पर कुछ लोग ऐसे है जो अधिकार के खिलाफ एक से ज्यादा वोट देते है।

वही देश के अन्दर ऐसे कई सारे राजनेतिक पार्टिया भी है जो जान भुझ कर अपने वोटरों के एक से ज्यादा वोटर कार्ड बनवा देते है ताकि चुनाव के समय उन्हें फायदा हो सके। 

ऐसे में यदि हम अपने वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करते है तो इससे हमे नुकसान कम पर फायदा ज्यादा ही होने वाला है साथ ही ये देश में सवच्छ चुनाव के लिए भी महत्वपूर्ण है इसीलिए हो सके तो हमे अपना वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना चाहिए।

तो चलिए अब हमलोग जानते है की online voter card ko aadhar card se link kaise kare? यानी voter card ko aadhar card se kaise jode?

ऑनलाइन वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कैसे करे?

वोटर कार्ड को आधार कार्ड से कैसे जोड़े की बात करे तो अभी इसका प्रक्रिया शुरू नहीं हुआ है अभी तो सिर्फ वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करने का प्रस्ताव चुनाव कानून संशोधन विधेयक 2021 लोकसभा में पास हुआ है अभी वोटर आधार लिंक की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है।

पर जब वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करने का सारा प्रक्रिया सरकार की और से कर लिया जाएगा तब आप इसे भारत सरकार के Voter Portal https://voterportal.eci.gov.in/ में जाकर अपने वोटर कार्ड को आधार कार्ड से जोड़ पाएंगे। Voter aadhar link kaise kare? से जुड़ी जैसे ही कोई जानकारी आएगा हम आपके लिए वह सारी जानकारी अपडेट कर देंगे।

निष्कर्ष (Conclusion):-

ऑनलाइन वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कैसे करे? के इस आर्टिकल में हमलोगों ने जाना की voter card ko aadhar card se link karne ke fayde kya hai?, voter card ko aadhar card se link karne ke nuksan kya hai??, voter card ko aadhar card se jodna chahiye ki nahi?, voter card ko aadhar card se link karna kyu jaruri hai?, voter card ko aadhar card se jodne ki prakriya kya hai?

क्या वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना अनिवार्य है?

नहीं, अभी वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना अनिवार्य नहीं है। अभी इसका प्रक्रिया शुरू नहीं हुआ है अभी तो सिर्फ वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करने का प्रस्ताव “चुनाव कानून संशोधन विधेयक 2021” लोकसभा में पास हुआ है अभी वोटर आधार लिंक की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है।

वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कैसे करे?

वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक आप भारत सरकार के Voter Portal https://voterportal.eci.gov.in/ में जाकर कर सकेंगे पर अभी इसका प्रक्रिया शुरू नहीं हुआ है।

दोस्तों तो ये रहा वोटर आधार लिंक कैसे करे? की पूरी जानकारी हिंदी में इसके अलावा भी अगर आपके मन में voter card aadhar card link in hindi यानी वोटर-आधार लिंक से जुड़ी किसी भी प्रकार का प्रश्न है तो वह आप कमेंट्स करके पूछ सकते है मुझे आपके प्रश्नों का उत्तर देकर काफी ख़ुशी होगी।

हमारे साथ जुड़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

Leave a Comment