60 Chand ka paryayvachi shabd | चंद का पर्यायवाची शब्द

Chand ka paryayvachi shabd | चंद का पर्यायवाची शब्द | chand ke paryayvachi shabd | चांद का पर्यायवाची शब्द | chandrama ka paryayvachi shabd | चंद्रमा का पर्यायवाची शब्द

Chand ka paryayvachi shabd: क्या आप “chand ka paryayvachi shabd” सर्च कर रहे है तो आप बिलकुल सही आर्टिकल पे आए है आज हमलोग “चंद का पर्यायवाची शब्द” के इस आर्टिकल में 50 से भी अधिक चांद का पर्यायवाची शब्द के बारे में जानने वाले है तो चलिए जानते है की chand ke paryayvachi shabd क्या होता है?

Chand ka paryayvachi shabd (चंद का पर्यायवाची शब्द)

चंद्रमासुधांशुशशांकसुधाकरशशि
हिमांशुसारंगविभाकररजनीशनिशाकर
इंदुराकेशतारापतिरजनीपतिमृगांक
मयंककलाधरविधुहिमकरनिशार्माण
श्वेताश्वशीतांशुसुधारश्मिछायांकमेहताब
अत्रिजउडुराजअमीकरनक्षत्रनाथसितांशु
ताराधीशग्रहराजकलानिधिहरिणांकदोषाकर
दधिसुतसोमसुधाधरनिशापतिअमृतांशु
कौमुदीपतितारानाथरोहिणीपतिशशधरतमोहर
मृगलांछनतुषाररश्मिकुमुदिनीपतितारकेश्वरद्विज
उडुपतिअमृतकरउदधिसुतक्षपानाथसिंधुजन्मा
अमृतरश्मिओषधीशअब्धिजऔषधिपतितुषारांशु

Chand ka paryayvachi shabd hindi mein (चंद का पर्यायवाची शब्द हिंदी में)

चंद्र, सिंधुजन्मा, सुधांशु, सुधारश्मि, सोम, हरिणांक, हिमकर, श्वेताश्व, शीतांशु, सितांशु, सुधांशु, सुधाधर, राकेश, सारंग, निशाकर, निशापति, रजनीपति, मृगांक, कलानिधि, हिमांशु, इंदु, विधु, अमृतरश्मि, अमृतांशु, उडुपति, चंदा, अब्धिज, अमृतकर, कौमुदीपति, नक्षत्रनाथ, द्विज, शशि, तारापति, उडुराज, उदधिसुत, ओषधीश, औषधिपति, कलाधर, कुमुदिनीपति, विभाकर, क्षपानाथ, ग्रहराज, छायांक, तमोहर, तारकेश्वर, मृगांक, मेहताब, रजनीपति, रजनीश, राकेश, ताराधीश, तारानाथ, तुषाररश्मि, तुषारांशु, दधिसुत, दोषाकर, निशार्माण, मयंक, महताब, मृगलांछन, रोहिणीपति, विधु, शशधर, शशांक, अत्रिज, अमीकर, सुधाकर

Chand ke paryayvachi shabd english mein (चांद का पर्यायवाची शब्द अंग्रेजी में)

Idle, Drift, Loaf, Languish, Waste Time, Daydream, Mope, Mooch, Doss, Pine, Fantasize, Diana, Luna, Lunar, Crescent, Moonlight, Secondary Planet, Cynthia, Satellite, etc

chandrama ka paryayvachi shabd sanskrit mein (चंद्रमा का पर्यायवाची शब्द संस्कृत में)

सोम:, हिमांसु:, निशाकर:, क्षपाकर:, प्रालेयांशु, रोहिणी-वल्लभ:, इंदु:, नक्षत्रेश:, अब्ज:, ऋक्षेश: आदि

यह भी पढ़े: बादल का पर्यायवाची शब्द

चाँद पर निबंध (Essay on moon in hindi)

पूर्णिमा रात को जब हम आसमान की ओर देखते है तो हमे आसमान में एक बहुत ही सुंदर, प्यारा गोल सा चीज चमकता हुआ दिखाई देता है जिसकी रोशानी चारो और फेली हुई होती है। वह आसमान में सुंदर सा, प्यारा सा, गोल सा चीज कोई और नहीं वल्कि चाँद होता है। चाँद पृथ्वी का एकलौता प्राकृतिक उपग्रह है। जो बहुत ही खुबसूरत होता है। बचपन में दादा दादी सब बच्चो को चाँद के बारे में तरह तरह के कहानियाँ सुनते है। बच्चे चाँद को प्यार से चंदामामा कहकर बुलाते है। बच्चो को चंदामामा बहुत ही प्रिय है और सभी बच्चो को चंदामामा की कहानियाँ सुनना काफी पसंद होता है। चाँद को देखकर बच्चे बहुत खुश हो जाते हैं। चाँद हमें रात में रोशनी देता है। जैसे पृथ्वी सूर्य के चारो ओर चक्कर लगता है वैसे ही चंद्रमा पृथवी के चारो ओर चक्कर लगता है। चाँद हमे चमकता हुआ दिखाई देता है पर चाँद का अपना रोशानी नहीं होता है वह तो सूर्य की रोशानी चंद्रमा के ऊपर पड़ता है जिस कारण चंद्रमा हमे चमकता हुआ दिखाई देता है। चाँद हर रात अलग अलग अकार में दिखाई देता है और ये हर रात पहले से थोरा ज्यादा दिखाई देता है और यह पूर्णिमा की रात पूरी गोल हो जाती है। पूर्णिमा की रात चमकता हुआ चाँद पृथ्वी से बहुत ही सुंदर दिखाई देता है। चाँद सौरमंडल का पाँचवा सबसे विशाल उपग्रह है। पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी 384,403 किलोमीटर है। यह पृथ्वी की एक परिक्रमा करने में 27 दिन 7 घंटे और 43 मिनट का समय लेती है। चांद पूरब में उगता है और पश्चिम में छिप जाता है। चाँद पर सबसे पहले जाने वाले वैज्ञानिक का नाम नील आर्मस्ट्रांग था वे 1969 में चांद पर गए थे। अब तक 12 वैज्ञानिक चाँद पर जा चुके हैं। चाँद पर कोई वातावरण नहीं है इसलिए वहाँ पर एक दूसरे की आवाज नहीं सुनी जा सकती। चाँद पर पृथ्वी की तरह वायुमंडल भी नहीं है इसलिए चाँद पर दिन में बहुत गर्मी रहती है और रात में बहुत ठंडी होती है यही कारण है कि वहाँ पर जीवन संभव नहीं है। पृथ्वी से चांद देखने में सुंदर लगता है, लेकिन यह बहुत भयानक है। चाँद चट्टानों और बड़े छेदों से भरा हुआ है। चाँद की गुरुत्वाकर्षण बल पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण की अपेक्षा कम है इसलिए चाँद पर चलना मुश्किल होता है। चाँद का केवल 59 प्रतिशत भाग ही हमे पृथ्वी से दिखाई देता है।

यह भी पढ़े: Name of the month in hindi

चाँद पर 10 वाक्य (10 lines on moon in hindi)

  1. चाँद पृथ्वी का एकमात्र प्राकृतिक उपग्रह है।
  2. चाँद रात को सफ़ेद रंग में चमकता हुआ दिखाई देता है।
  3. चाँद खुद नहीं चमकता है बल्कि सूर्य की रोशनी जब चाँद पर गिरती है तो चाँद चमकता हुआ दिखाई देता है।
  4. पृथ्वी से चंद्रमा की दुरी 384,400 किलोमीटर है। 
  5. चाँद पृथ्वी का एक चक्कर 27 दिन 7 घंटे और 43 मिनट में पूरा करता है।
  6. दुनिया में चाँद की धरती पर कदम रखने वाला पहला आदमी अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री नील आर्मस्ट्रांग था।
  7. चाँद का केवल 59 प्रतिशत भाग ही पृथ्वी से दिखाई देता है।
  8. चाँद पर कोई वातावरण नहीं है इसलिए वहाँ पर एक दूसरे की आवाज नहीं सुनी जा सकती।
  9. चाँद पर पृथ्वी की तरह वायुमंडल भी नहीं है।
  10. पूर्णिमा की रात चाँद पूरी गोल दिखाई देती है।
  11.  चंद्रमा का गुरुत्वाकर्षण बल 1.62 m / s2 है।
यह भी पढ़े: Name of the days in hindi

चंद्रग्रहण क्यों और कैसे लगता है

चंद्रग्रहण एक प्राकृतिक घटना है। चंद्रग्रहण उस खगोलीय स्थिति को कहते है जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आ जाता है ऐसा तभी हो सकता है जब सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा इस क्रम में लगभग एक सीधी रेखा में अवस्थित हों। चंद्र ग्रहण शुरू होने के बाद ये पहले काले और फिर धीरे – धीरे सुर्ख लाल रंग में तब्दील होता है। हिंदू धर्म में सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण दोनों का ही महत्व माना जाता है। भारत में ग्रहण को लेकर कई अंधविश्वास भी हैं। जबकि विज्ञान ग्रहण के विषय में कोई भी अंधविश्वास को मानने से मना करते हैं। विज्ञान पूरी तरह से ग्रहण को एक खगोलीय घटना बताता है। तो जानते हैं चंद्र ग्रहण क्या होता है। जब सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आ जाती है तो पृथ्वी के बीच में आ जाने से सूर्य की पूरी रोशनी चंद्रमा पर नहीं पड़ती इसी को चंद्रग्रहण कहा जाता है। ऐसा तभी होता है जब सूर्य पृथ्वी और चंद्रमा क्रम मे एकदम सीध रेखा में आ जाए। एक साल में अधिकतम तीन बार पृथ्वी की उपछाया से चंद्रमा गुजरता है तभी चंद्र ग्रहण लगता है। हैरानी की बात यह है इस स्थिति के कारण चंद्र ग्रहण केवल पूर्णिमा को ही घटित हो सकता है। वैसे तो साल भर में 12 से 13 चक्कर चंद्रमा पृथ्वी के लगाता है पर तीन से चार मौके ऐसे आते हैं जिसमें चंद्रमा पृथ्वी के पास से गुजरता है। चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा को ही होता है क्योंकि सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी पूर्णिमा के दिन आती है। चंद्र ग्रहण पूर्णिमा को पड़ता लेकिन हर पूर्णिमा को नहीं पड़ता है इसके पीछे का कारण है। कि पृथ्वी की कक्षा पर चंद्रमा हल्का सर झुका हुआ है यह झुकाव तकरीबन 5 डिग्री का है। इसलिए हर बार चंद्रमा पृथ्वी की छाया में प्रवेश नहीं कर पाता उसके ऊपर या नीचे से निकल जाता है।

यह भी पढ़े: 300+ ए मात्रा वाले शब्द

FAQ on chand ka paryayvachi shabd | चंद का पर्यायवाची शब्द से जुड़ा प्रश्न उत्तर

प्रश्न- चाँद क्या है?
उत्तर- चाँद पृथ्वी का चाँद पृथ्वी का एकलौता प्राकृतिक उपग्रह है।

प्रश्न :- पृथ्वी के कितने उपग्रह है?
उत्तर :- पृथ्वी का केवल एक उपग्रह है और वह है चाँद।

प्रश्न :- चाँद किसके प्रकाश के कारण रात में चमकता है?
उत्तर :- चाँद सूर्य के प्रकाश के कारण रात में चमकता है।

प्रश्न :- चाँद किसका चक्कर लगाती है? 
उत्तर :- चाँद पृथ्वी का चक्कर लगाती है। 

प्रश्न :- पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी कितनी है?
उत्तर :- पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी 384,403 किलोमीटर है।

प्रश्न :-चांद पृथ्वी की परिक्रमा कितने समय में पूरा करता है?
उत्तर :- चांद पृथ्वी की परिक्रमा 27 दिन 7 घंटे और 43 मिनट में पूरा करता है।

प्रश्न :- चांद कहा से उगता है और कहा में छिप जाता है?
उत्तर :- चांद पूरब में उगता है और पश्चिम में छिप जाता है।

प्रश्न :- चाँद हर रोज किस अकार में दिखाई देता है?
उत्तर :- चाँद हर रोज अलग अकार में दिखाई देता है।

प्रश्न :- चाँद सौरमंडल का कैसा उपग्रह है?
उत्तर :- चाँद सौरमंडल का पाँचवा सबसे विशाल उपग्रह है। 

प्रश्न :- चाँद पर सबसे पहले कदम रखने वाला वैज्ञानिक का नाम क्या था?
उत्तर :- चाँद पर सबसे पहले कदम रखने वाला वैज्ञानिक का नाम नील आर्मस्ट्रांग था।

प्रश्न :- नील आर्मस्ट्रांग चाँद पर कब गया था?
उत्तर :- नील आर्मस्ट्रांग चाँद पर 1969 में गया था।

प्रश्न :- अब तक कितने वैज्ञानिक चाँद पर जा चुके हैं?
उत्तर :- अब तक 12 वैज्ञानिक चाँद पर जा चुके हैं।

प्रश्न :- चाँद पर जीवन क्यों संभव नहीं है?
उत्तर :- क्योंकी चाँद पर पृथ्वी की तरह वायुमंडल नहीं है।

प्रश्न :- चंद्रमा का गुरुत्वाकर्षण बल कितना है?
उत्तर :- चंद्रमा का गुरुत्वाकर्षण बल 1.62 m / s2 है।

प्रश्न :- पृथ्वी की कक्षा पर चंद्रमा कितना झुका हुआ है?
उत्तर :- पृथ्वी की कक्षा पर चंद्रमालगभग 5 डिग्री का है।

प्रश्न :- साल भर में चंद्रमा पृथ्वी के कितने चक्कर लगाता है?
उत्तर :- साल भर में 12 से 13 चक्कर चंद्रमा पृथ्वी के लगाता है।

प्रश्न :- चाँद का कितना प्रतिशत भाग पृथ्वी से दिखाई देती है?
उत्तर :- चाँद का लगभग 59 प्रतिशत भाग पृथ्वी से दिखाई देती है।

प्रश्न :- चंद्रग्रहण किसे कहते हैं?
उत्तर :- जब सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आ जाती है तो सूर्य की पूरी रोशनी चंद्रमा पर नहीं पड़ती इसी को चंद्रग्रहण कहा जाता है।

चांद का 10 पर्यायवाची शब्द लिखे?

सुधांशु, शशांक, सुधाकर, हिमांशु, शशि, रजनीश, विभाकर, मृगांक, सारंग और निशाकर।

चांद का 10 पर्यायवाची शब्द संस्कृत में लिखे?

सोम:, हिमांसु:, निशाकर:, क्षपाकर:, प्रालेयांशु, रोहिणी-वल्लभ:, इंदु:, नक्षत्रेश:, अब्ज: और ऋक्षेश:।

यह भी पढ़े: 10 फूल के नाम हिंदी में

तो यह रहा chand ka paryayvachi shabd (चंद का पर्यायवाची शब्द) जिसमे हमने 60 से भी अधिक chandrama ka paryayvachi shabd (चांद का पर्यायवाची शब्द) के बारे में जाना, आशा करता हूँ की आपको यह जानकारी अच्छा लगा है यदि आपको यह जानकारी अच्छा लगा है तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे।

यह भी पढ़े: AM PM Full Form in Hindi

“chand ka paryayvachi shabd” का इस आर्टिकल को अपना प्यार देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

Leave a Comment