10 Animals Name in Sanskrit with Picture | 10 जानवरों के नाम संस्कृत में

10 animals name in sanskrit with picture | 10 जानवरों के नाम संस्कृत में | 10 animal name in sanskrit | 10 पशुओं के नाम संस्कृत में | 10 animal names in sanskrit | 10 pashu ke naam sanskrit mein | 10 animals names in sanskrit | 10 name of animals in sanskrit | animals name sanskrit | janvaron ke naam sanskrit mein | sanskrit animal name

“10 Animals name in sanskrit with picture” के इस आर्टिकल में आज हमलोग “10 जानवरों के नाम संस्कृत में” वाले है। “10 animal name in sanskrit” यानि “10 पशुओं के नाम संस्कृत में” जानने के साथ साथ हमलोग इन सभी जानवरों के बारे में details में भी जानकारी प्राप्त करेंगे।

10 Animals Name in Sanskrit
10 Animals Name in Sanskrit
यह भी पढ़े: 50 Sanskrit Animals Name (जानवरों के नाम संस्कृत में)

विषयसूची (Table of Contents)

10 Animals Name in Sanskrit with Picture

SL NoAnimals Name in HindiAnimals Name in SanskritAnimals Name in EnglishAnimals Picture
1गायधेनुः, गौःCow Cow
2कुत्ता श्वानः, कुक्कुरः, सारमेयःDog Dog
3बिल्ली बिडालः Cat Cat
4हाथी गज: Elephant Elephant
5घोड़ाअश्वः, घोटकः Horse Horse
6बाघ व्याघ्रः TigerTiger
7शेर, सिंह सिंह:, केसरिन्‚ मृगेन्द्रःLion Lion
8ऊंटउष्ट्रः, क्रमेलकःCamel Camel
9हिरन हरिणः, मृगः Deer Deer
10बंदरवानरः, कपि मर्कटः Monkey Monkey

10 Animal Names in Sanskrit

यह भी पढ़े: All Animal Name in Hindi and English with Photo (जानवरों के नाम हिंदी और इंग्लिश में)

10 जानवरों के नाम संस्कृत में और उनके बारे में जानकारी

धेनुः या गौः (गाय)

गाय को संस्कृत में धेनुः या गौः कहा जाता है वही गाय को अंग्रेजी में Cow कहा जाता है तथा गाय का वैज्ञानिक नाम बोस टौरस (Bos Taurus) होता है। गाय एक पालतू पशु है जो बहुत ही प्यारा और शांत स्वभाव के होते है। हिन्दू धर्म में गाय एक पूज्यनीय पशु है। आपको बता दे की हिन्दू धर्म में गाय को माँ का दर्जा दिया गया है और गाय की पूजा भी की जाता है। गोवर्धन पूजा में गाय को सजाकर उनकी पूजा की जाती है। गाय एक बहुत ही शुभ पशु माना जाता है तथा गाय को घरो में पलना एक पुन्य का काम माना जाता है। गाय एक दुधारू पशु है जो हमे काफी मात्रा में दूध देते है। गाय का दूध बहुत ही स्वादिष्ट और पोस्टिक गुणों से भरपूर होता है। गाय के दूध में काफी सारे पोषक तत्व जैसे विटामिन, मिनरल्स , प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, वसा आदि पाए जाते है जिस कारण से लोग गाय का दूध पीना सबसे ज्यादा पसंद करते है। गाय एक पूर्ण शाकाहारी जानवर होता है जो घास, भूसा, खली, चोकर आदि खाते है। 

श्वानः, कुक्कुरः या सारमेयः (कुत्ता)

कुत्ता को संस्कृत में श्वानः, कुक्कुरः या सारमेयः कहा जाता है वही कुत्ता को अंग्रेजी में हम Dog के नाम से जानते है तथा कुत्ता का वैज्ञानिक नाम केनिस लुपस फैमिलियरीस (Canis Lupus Familiaris) होता है। कुत्ता एक पालतू जानवर है। जिसे लोग अन्य जानवरों के मुकाबले सबसे ज्यादा अपने घरो में पलना पसंद करते है खासकर के शहरी क्षेत्रो में अधिक मात्रा में कुत्ता पाला जाता है। आपको बता दे की आदि मानव द्वारा पालतू बनाए जाने वाला पहला जानवर कुत्ता ही था। तथा अंतरिक्ष में जाने वाला पहला जानवर भी एक कुत्ता ही था जिसका नाम लाइका था जिसे सोवियत संघ द्वारा 3 नवंबर 1957 को अंतरिक्ष में भेजा गया था। कुत्ता एक बहुत ही बुद्धिमान, तेज, समझदार और वफादार जानवर होता है। कुत्ता को कई लोग अपने घरो की रखवाली के लिए तथा कई लोग अपने शौक से पाला करते है। हमारे घरो के आसपास गली मोहल्ले भी काफी संख्या में कुत्ता पाया जाता है। कुत्ता एक सर्वाहारी जानवर होता है यानि कुत्ता वेज और नॉन वेज दोनों प्रकार के भोजन को खाते है। कुत्ता मांस, मछली, अंडा के साथ साथ दूध, ब्रेड, बिस्कुट, रोटी, चावल आदि भी खाते है। अन्य जानवरों के मुकाबले कुत्ता की देखने और सूंघने की क्षमता काफी अधिक तेज होती है।

यह भी पढ़े: 10 Flowers Name in Sanskrit with Picture (10 फूलों के नाम संस्कृत में)

बिडालः (बिल्ली)

बिल्ली का संस्कृत में बिडालः कहा जाता है वही बिल्ली को अंग्रेजी में Cat कहा जाता है। तथा बिल्ली का वैज्ञानिक नाम फेलिस डोमेस्टिका (Felis Domestica) होता है। बिल्ली बाघ की प्रजाति का एक जानवर है जो आकार में बाघ से बहुत ही छोटे आकार के होते है। बिल्ली एक बहुत ही तेज, समझदार, फुर्तीला और बहादुर जानवर होता है। बिल्ली एक पालतू जानवर है जो हमारे घरो के आसपास रहते है तथा काफी लोग बड़े शौक से अपने घरो में बिल्ली को पालते है। बिल्ली एक सर्वाहारी जानवर है जो मांस, मछली, अंडा के साथ साथ दूध, ब्रेड, चावल, रोटी आदि भी खाते है। बिल्ली का सबसे पसंदीदा भोजन चूहा होता है। बिल्ली, चूहा का शिकार करने में काफी माहिर होते है। देश के कई हिस्सों में बिल्ली को लेकर नकारात्मक धारणाएं भी है ऐसा माना जाता है की बिल्ली एक अशुभ जानवर है और इसके रास्ता काटने से अशुभ होता है।

गज: (हाथी)

हाथी को संस्कृत में गज: कहा जाता है वही हाथी को अंग्रेजी में Elephant के नाम से जाना जाता है तथा हाथी का वैज्ञानिक नाम एलिफ्स मैक्सिमस (Elephas Maximus) होता है। हाथी एक विशालकाय जंगली जानवर है आपको बता दे की हाथी जमीन पे पाए जाने वाला सबसे बड़ा जानवर है। वैसे तो हाथी एक जंगली जानवर है जो घने जंगलो और घास के मैदानों में रहते है। हाथी एक जंगली जानवर होने के बावजूद काफी समझदार और बुद्धिमान जानवर होता है जिस कारण से इसे पालतू भी बनाया जा सकता है। प्राचीन काल से ही राजा महाराजा द्वारा हाथी पाला जाता था। राजा महाराजा हाथी का पालन सवारी करने के लिए और युद्ध में लड़ाई के लिए हाथी पाला करते थे। जैसा की आपको बता है की हमारे हिन्दू धर्म में भगवान गणेश जी का सिर एक हाथी का सिर है जिस कारण से हाथी को हिन्दू धर्म में पूज्यनीय जानवर माना जाता है और इनकी पूजा की जाती है। हाथी एक पूर्ण शाकाहारी जानवर है जो पेड़- पौधे के फल, फूल, पत्ते, टहनियाँ, गन्ना, केला आदि खाते है।

यह भी पढ़े: 10 Fruits Name in Sanskrit with Picture (10 फलों के नाम संस्कृत में)

अश्वः या घोटकः (घोड़ा)

घोड़ा को संस्कृत में अश्वः या घोटकः के नाम से जाना जाता है वही घोड़ा को अंग्रेजी में Horse के नाम से जाना जाता है तथा घोड़ा का वैज्ञानिक नाम इक्वस कैबेलस (Equus caballus) होता है। घोड़ा एक बहुत ही शक्तिशाली, तेज, साहसी और बुद्धिमान जानवर होता है। हम मनुष्यों द्वारा प्राचीन काल से ही घोड़ा का पालन किया जा रहा है। घोड़ा बहुत ही तेज, लगातार बीना रुके काफी लम्बी दुरी तक दौड़ सकता है। घोड़ा का यह तेज, लगातार बीना रुके काफी लम्बी दुरी तक दौड़ने के गुण के कारण ही राजा महाराजा द्वारा घोड़ा का पालन घुड़सवारी करने, शिकार करने और युद्ध लड़ने में किया करते थे। पहले के मुकाबले आज कल घोड़ा का पालन काफी कम हो गया है अब लोग शौक से घुड़सवारी करने और घोड़ा गाड़ी चलने के लिए घोड़ा पाला करते है।

व्याघ्रः (बाघ)

बाघ को संस्कृत में व्याघ्रः कहा जाता है वही बाघ को अंग्रजी में Tiger कहा जाता है तथा बाघ का वैज्ञानिक नाम पेंथेरा टिग्रिस (Panthera Tigris) होता है। आपको बता दे की हमारे देश भारत का राष्ट्रीय पशु बाघ (रॉयल बंगाल टाइगर) है। भारत के अलावा बांग्लादेश और म्यांमार देश का राष्ट्रीय पशु भी बाघ ही है। बाघ एक बहुत ही ताकतवर, शक्तिशाली, फुर्तीला और खूंखार जंगली जानवर है। बाघ एक पूर्ण मांसाहारी जानवर है जो जंगलो में दुसरे जानवर जैसे हिरण, भैंस, सूअर, जिराफ़, ज़ेबरा आदि का शिकार करके उसका मांस खता है। बाघ हमेश स्वयं शिकार करके भोजन करता है। बाघ कभी भी मरे हुए जानवरों का भोजन नहीं करता है।

यह भी पढ़े: 10 Vegetables Name in Sanskrit with Picture (10 सब्जियों के नाम संस्कृत में)

सिंह:, केसरिन् या मृगेन्द्रः (शेर या सिंह)

शेर यानि सिंह को संस्कृत में सिंह:, केसरिन् या मृगेन्द्रः के नाम से जाना जाता है वही शेर यानि सिंह को अंग्रेजी में Lion कहा जाता है तथा शेर का वैज्ञानिक नाम पैँथरा लियो (Panthera leo) होता है। आपको बता दे की नर शेर को सिंह कहा जाता है जिसके गर्दन में काफी बड़े बड़े और घने घने बाल होते है वही मादा शेर को शेरनी कहा जाता है। जिसके गले में सिंह जैसा घने घने बाल नहीं होते है। शेर एक बहुत ही बड़ा, ताकतवर, शक्तिशाली, फुर्तीला और खूंखार शिकारी जंगली जानवर है। शेर एक पूर्ण मांसाहारी जानवर होता है जो जंगलो में दुसरे जानवरो जैसे हिरण, भैंस, सूअर, जिराफ़, ज़ेबरा आदि का शिकार करके उसका मांस खाते है। 

उष्ट्रः, क्रमेलकः (ऊंट)

ऊंट को संस्कृत में उष्ट्रः, या क्रमेलकः के नाम से जनन जाता है वही ऊंट का अंग्रेजी में Camel के नाम से जाना जाता है तथा ऊंट का वैज्ञानिक नाम केमेलस ड्रोमेडेरियस (Camelus Dromedarius) होता है। ऊंट एक पालतू जानवर है जो रेगिस्तान वाले गर्म क्षेत्रो में पाया जाता है। भारत में ऊंट ज्यादातर राजस्थान राज्य में पाया जाता है। ऊंट के पैर गद्देदार चौड़े होते है जिस कारण से ऊंट का पैर रेगिस्तान के बालू में नहीं धसते है और ऊंट अन्य जानवरों के मुकाबले रेगिस्तान में काफी आसानी से और तेज चल सकते है जिस कारण से ऊंट को रेगिस्तान का जहाज भी कहा जाता है। और यही कारण है की रेगिस्तान वाले इलाके के लोग ऊंट का पालन करते है और ऊंट का उपयोग एक जगह से दूसरा जगह आने जाने के लिए करते है। ऊंट एक शाकाहारी जानवर है जो घास, भूसा, पेड़-पोधो के पत्ते टहनियाँ आदि खाते है। ऊंट के पेट में एक बड़ा सा थेली नुमा आकृति होती है जिसमे वह पानी पीते समय पानी को इकटठा करके रखता है और रेगिस्तान की तपती धुप में बीना पानी पिए लगभग 21 दिनों तक जीवित रह सकता हैं।

हरिणः या मृगः (हिरण)

हिरण को संस्कृत में हरिणः या मृगः कहा जाता है वही हिरण को अंग्रेजी में Deer कहा जाता है तथा हिरण का वैज्ञानिक नाम सर्विडाए‎ (Cervidae) होता है। हिरण एक जंगली जानवर है जो घने जंगलो में घास के मैदानों में पाया जाता है। हिरण एक बहुत ही तेज, शातिर और फुर्तीला जानवर होता है। हिरण अपने तेज दोड़ और फुर्ती के कारण कई बार शिकारी जानवर को भी चकमा देने में कामयाब हो जाते है। हिरण एक सामाजिक जानवर है जो हमेशा झुंड में रहना पसंद करता है। हिरण के एक झुंड में हजारो की संख्या में हिरण होते है। नर हिरण के सिर में काफी बड़े आकार के सिंग होता है वही मादा हिरण के सिर में कोई सिंग नहीं होता है। हिरण एक शाकाहारी जानवर होता है जो घास, पत्ते, फल, फूल आदि खाते है। 

वानरः या कपि मर्कटः (बंदर)

बंदर को संस्कृत में वानरः या कपि मर्कटः कहा जाता है वही बंदर को अंग्रेजी में Monkey कहा जाता है तथा बंदर का वैज्ञानिक नाम मकाका फासिकुलिस (Macaca Fascicularis) होता है। बंदर एक बहुत ही तेज, बुद्धिमान, फुर्तीला, शरारती और नटखट जानवर होता है। वैसे तो बंदर मूल रूप से एक जंगली जानवर है जो घने जंगलो के ऊँचे ऊँचे पेड़ो में रहना पसंद करते है। लेकिन बंदरो की कुछ प्रजातियाँ हमारे मंदिरों के आसपास भी काफी संख्या में रहते है। बंदरो की ज्यादातर प्रजातियाँ शाकाहारी होते है जो फल, फूल आदि खाते है वही बंदरो की कुछ प्रजातियाँ सर्वाहारी भी होते है जो  फल, फूल के साथ साथ छोटे जानवरों को भी मार कर खाते है। बंदर की IQ level अन्य सभी जानवरों के मुकाबले सबसे तेज होते है आपको बता दे की एक सामान्य मनुष्य का IQ level 85 से 115 के बीच होता है वही एक सामान्य बंदर का IQ level अधिकतम 100 के आसपास हो सकती है।

10 Animal Name in Sanskrit

FAQ on 10 Animals Name in Sanskrit

गाय को संस्कृत में क्या कहते है?

गाय को संस्कृत में धेनुः या गौः कहते है।

कुत्ता को संस्कृत में क्या कहते है?

कुत्ता को संस्कृत में सारमेयः, श्वानः या कुक्कुरः कहते है।

बिल्ली को संस्कृत में क्या कहते है?

बिल्ली को संस्कृत में बिडालः कहते है।

हाथी को संस्कृत में क्या कहते है?

हाथी को संस्कृत में गज: कहते है।

घोड़ा को संस्कृत में क्या कहते है?

घोड़ा को संस्कृत में अश्वः या घोटकः कहते है।

बाघ को संस्कृत में क्या कहते है?

बाघ को संस्कृत में व्याघ्रः कहते है।

सिंह को संस्कृत में क्या कहते है?

सिंह को संस्कृत में सिंह:, केसरिन् या मृगेन्द्रः कहते है।

ऊंट को संस्कृत में क्या कहते है?

ऊंट को संस्कृत में उष्ट्रः या क्रमेलकः कहते है।

हिरन को संस्कृत में क्या कहते है?

हिरन को संस्कृत में हरिणः या मृगः कहते है।

बंदर को संस्कृत में क्या कहते है?

बंदर को संस्कृत में वानरः या कपि मर्कटः कहते है।

Conclusion on 10 Animals Name in Sanskrit

10 animals name in sanskrit with picture के इस आर्टिकल में आज हमलोग 10 जानवरों के नाम संस्कृत में जाना, आशा करता हूँ की 10 animal name in sanskrit का यह आर्टिकल आपको अच्छा लगा होगा। आपको 10 pashu ke naam sanskrit mein का यह आर्टिकल कैसा लगा यह आप हमे कमेंट में जरुर बताए, साथ ही 10 animal names in sanskrit के इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे।

10 Animals Name in Sanskrit with Picture के इस आर्टिकल को अपना प्यार और सपोर्ट देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

Leave a Comment