Direction Name in Sanskrit | East West North South in sanskrit

direction name in sanskrit | east west north south in sanskrit | north west east south in sanskrit | sanskrit direction name | दिशाओं के नाम संस्कृत में

दोस्तों जब हम किसी दिशा को हिंदी में इंगित करते है तो  पूर्व पश्चिम उत्तर दक्षिण का उपयोग करते है वही जब हमे किसी दिशा की ओर अंग्रेजी में इंगित करना होता है तो east west north south का उपयोग करके करते है। पर क्या आपको पता है की संस्कृत में सभी दिशाओ का नाम क्या है? यही आपको direction name in sanskrit के बारे नहीं पता है और इसके बारे में जानने की रूचि है तो आप बिलकुल सही जगह पे आए है इस आर्टिकल में आज हमलोग north west east south in sanskrit के बारे में जानने वाले है।

Direction Name in Sanskrit (East West North South in sanskrit)
Direction Name in Sanskrit (East West North South in sanskrit)

Direction Name in Sanskrit (East West North South in sanskrit)

SL NoDirection Name in HindiDirection Name in sanskritDirection Name in English
1पूर्वपूरब:, प्राची, प्राक्East
2पश्चिमपश्चिम:, प्रतीचि, अपराWest
3उत्तरउत्तर, उदीचिNorth
4दक्षिणदक्षिण:, अवाचिSouth
5उत्तर पूर्वईशान्यNorth East
6दक्षिण पूर्वआग्नेयSouth East
7उत्तर पश्चिमवायव्यNorth West
8दक्षिण पश्चिमनैऋत्यSouth West
9आकाशऊर्ध्वZenith
10पातालअधोNadir
यह भी पढ़े: Direction Name in Hindi (North West East South in Hindi)

भूगोल के अनुसार चार प्रमुख दिशाओ है पूर्व पश्चिम उत्तर और दक्षिण। अब आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा की कौन सा दिशा का क्या नाम है और कैसे पता करे की कौन सा दिशा किधर है तो आपको बता दे की सुबह सूरज जिधर से उगता है यानि जिधर से सूर्योदय होता है वह पूर्व दिशा होता है जिसे संस्कृत भाषा में पूरब:, प्राची या प्राक् के नाम से इंगित किया जाता है वही पूर्व को अंग्रेजी में East कहा जाता है। पूर्व का विपरीत दिशा को पश्चिम कहा जाता है यानि शाम के समय जिधर सूरज डूबता है यानि सूर्यास्त होता है उधर के दिशा का पश्चिम दिशा होता है। पश्चिम दिशा को संस्कृत में पश्चिम:, प्रतीचि या अपरा नाम से इंगित किया जाता है तथा पश्चिम को अंग्रेजी में West कहा जाता है। इसे यदि और आसान करके समझे तो मान लीजिए हम सूरज जिधर से उगता है उधर मुँह करके खड़े तो हमारा आगे की दिशा पूर्व होगा वही हमारे पीछे की दिशा पश्चिम होगा। हमारे दाहिने हाथ की ओर की दिशा पश्चिम होगा वही हमारे बाए हाथ की ओर की दिशा उत्तर दिशा होगा। आपको बता दे की उत्तर को संस्कृत में उत्तर: या उदीचि कहते है तथा उत्तर को अंग्रेजी में North कहा जाता है वही दक्षिण को संस्कृत में दक्षिण: या अवाचि कहते है तथा उत्तर को अंग्रेजी में North कहा जाता है।

जैसा की हमने जाना की चार प्रमुख दिशा पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण है। आपको बता दे की इन्ही दिशा का उपयोग करके और भी दिशा का निर्धारण किया गया है जैसे की उत्तर और पूर्व के मध्य की दिशा को उत्त-पूर्व कहा जाता है जिसे संस्कृत में ईशान्य कहा जाता है तथा अंग्रेजी में North East कहा जाता है। दक्षिण और पूर्व के मध्य की दिशा को दक्षिण-पूर्व कहा जाता है जिसे संस्कृत में आग्नेय कहा जाता है तथा अंग्रेजी में South East कहा जाता है। उत्तर और पश्चिम के मध्य की दिशा को उत्तर-पश्चिम कहा जाता है जिसे संस्कृत में वायव्य कहा जाता है तथा अंग्रेजी में North West कहा जाता है। इसी प्रकार दक्षिण और पश्चिम के मध्य की दिशा को दक्षिण-पश्चिम कहा जाता है जिसे संस्कृत में नैऋत्य कहा जाता है तथा अंग्रेजी में South West कहा जाता है। वही आपको बता दे की आसमान की ओर की दिशा को आकाश कहा जाता है जिसे संस्कृत में ऊर्ध्व और अंग्रेजी में Zenith कहा जाता है तथा जमीन की ओर की दिशा को पाताल कहा जाता है जिसे संस्कृत में अधो और अंग्रेजी में Nadir कहा जाता है।

यह भी पढ़े: 50 Musical Instruments Name in Hindi and English

FAQ on East West North South in sanskrit

पूर्व दिशा को संकृत में क्या कहते है?

पूर्व दिशा को संकृत में पूरब:, प्राची या प्राक् कहते है।

पश्चिम दिशा को संकृत में क्या कहते है?

पश्चिम दिशा को संकृत में पश्चिम:, प्रतीचि या अपरा कहते है।

उत्तर दिशा को संकृत में क्या कहते है?

उत्तर दिशा को संकृत में उत्तर या उदीचि कहते है।

दक्षिण दिशा को संकृत में क्या कहते है?

दक्षिण दिशा को संकृत में दक्षिण: या अवाचि कहते है।

Conclusion on Direction Name in Sanskrit

Direction name in sanskrit के इस आर्टिकल में east west north south in sanskrit यानि दिशाओं के नाम संस्कृत में जाना, आशा करता हूँ की आपको north west east south in sanskrit का यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा। आप इस आर्टिकल के बारे में अपना विचार या सुझाव कमेंट के द्वारा हमसे साझा जरुर करे। साथ ही इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे।

Direction Name in Sanskrit (East West North South in sanskrit) के इस आर्टिकल को अपना प्यार और सपोर्ट देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

Leave a Comment